पीएम के टॉयलेट में लगा हुआ है कैमरा – बारु

April 15, 2014 4:20 pm6 commentsViews: 235

आजकल संजय बारु की किताब चर्चा में है और वह इसमें एक से बढ़कर एक खुलासे कर रहे हैं। उनके सनसनीखेज़ ताज़ा खुलासे ने देश के दिलों की धड़कनों को बढ़ा दिया है, उन्होंने आरोप लगाया है कि पीएम के टॉयलेट में जासूसी के लिए कैमरा लगा हुआ है। इस विषय पर हमारे विशेष संवाददाता शेख चिली ने उनसे तीखी बात की:

संवाददाता: संजय जी आपने अपनी किताब में लिखा है कि पीएम के टॉयलेट में कैमराg लगा हुआ है, इस पर हमारा सवाल यह है कि आपको पीएम के टॉयलेट के अंदर की जानकारी कैसे मिली?
संजय: पहले जब मैंने बताया था कि फाइल्स का मैटर 10 जनपथ में तय होता है तो कभी यह सवाल नहीं किया गया कि आपको उनकी फाइल्स की जानकारी कैसे मिली? फिर अब यह सवाल क्यों?

संवाददाता: संजय जी हो सकता है तब आपका इंटरव्यू लेने वाले संवाददाता के दिमाग में यह सवाल नहीं कौंधा हो? लेकिन इस बहाने से आप मेरे इस तीखे सवाल से पीछा नहीं छुड़ा सकते हैं? आपको बताना ही होगा कि आप पीएम के टॉयलेट में क्या करने गए थे?
संजय: वोह….. दरअसल….. हाँ….. मैं एक मिडिया प्लान पर उनसे इनपुट लेने गया था, तभी मेरे पेट ने गड़बड़ की और मुझे मज़बूरी में टॉयलेट ढूंढना पड़ा!

संवाददाता: अच्छा तो आपने वहां क्या देखा?
संजय: मैं तो वहां अपना काम कर रहा था…. म्म्म्मतलब, जब मैंने इधर-उधर नज़र घुमाई तो देखा कि ऊपर एक कैमरा लगा हुआ है। मैंने अपना काम छोड़ उस पर खोजबीन शुरू कर दी। मैं यह जानना चाहता था कि उस कैमरे की तार जाती कहाँ है? इसलिए मैं कैमरे की तार का रहस्य पता लगाने के लिए उसके पीछे पाइप में घुस गया।

संवाददाता: फिर आपने क्या देखा? वोह तार कहाँ जा रही थी?
संजय: मैं तार की पीछे-पीछे पाइप में चलता रहा और बाहर सड़क पर जा कर निकला।

संवाददाता: तो क्या यह तार सड़क पर जा रही थी?
संजय: सड़क तो इसका पहला डेस्टिनेशन था, असल में मुझे शक है कि उस तार के ‘तार’ 10 जनपथ से जुड़े हुए हैं।

संवाददाता: लेकिन संजय जी, आपकी इस थ्योरी में कई पेच हैं।
संजय: मुझे इन पेंचों की कतई परवाह नहीं है।

संवाददाता: तो क्या आपको लगता है कि कोई आपकी इस थ्योरी पर विश्वास करेगा?
संजय: मुझे पूरा विश्वास है कि इस चुनावी सीज़न में बहुत सारे लोग मेरी इस थ्योरी पर विश्वास करेंगे।

संवाददाता: जी हमारा अगला सवाल यह है…
संजय: (बात को बीच में रोकते हुए) धन्यवाद!

[हमारी कोई विश्वसनीयता नहीं है, हमारी खबरों में सच्चाई नहीं, बस ह्यूमर है! कृपया इस साईट पर लिखे गए किसी भी लेख को सत्य ना समझें]

Leave a Reply