आज के नेता और बेचारी जनता!

0 commentsViews: 93

If the public and the ‘leader’ is like this, then it’s impossible to tie a rope by democracy’!

अगर जनता ऐसी और ‘नेता’ ऐसा हो तो ‘लोकतंत्र’ की रस्सी से बांधकर रखना नामुमकिन है! 

Leave a Reply